'सोचा था स्नेहा अफसर बनेगी, पिता बोले- बेटी वापस चाहिए, अनुज के पिता ने कहा- बेटे को कैंसर नहीं था

  1. Home
  2. उत्तर प्रदेश
  3. नोएडा

'सोचा था स्नेहा अफसर बनेगी, पिता बोले- बेटी वापस चाहिए, अनुज के पिता ने कहा- बेटे को कैंसर नहीं था

'सोचा था स्नेहा अफसर बनेगी,  पिता बोले- बेटी वापस चाहिए,  अनुज के पिता ने कहा- बेटे को कैंसर नहीं था

ग्रेटर नोएडा की शिव नाडर यूनिवर्सिटी में छात्रा स्नेहा की हत्या के बाद शुक्रवार देर रात शव कानपुर के ओमनगर स्थित घर पहुंच


पब्लिक न्यूज़ डेस्क। ग्रेटर नोएडा की शिव नाडर यूनिवर्सिटी में छात्रा स्नेहा की हत्या के बाद शुक्रवार देर रात शव कानपुर के ओमनगर स्थित घर पहुंचा। बेटी की लाश देखकर परिवार के लोग बदहवास से हो गए। पिता राजकुमार ने कहा कि सोचा था स्नेहा अफसर बनेगी... अब अर्थी उठा रहा हूं। यह कहकर वो बेसुध हो गए।

मां रेखा ने कहा कि भगवान मुझे उठा लो, लेकिन मेरी बच्ची को लौटा दो। फिर मां भी रोते-रोते बदहवास हो गई। मोहल्ले के लोगों ने परिजनों को किसी तरह संभाला। स्नेहा का शव लेने के लिए उसके पिता राजकुमार, मां रेखा और चाचा मनीष चौरासिया नोएडा यूनिवर्सिटी पहुंचे थे। परिजनों ने कहा कि वो जांच के लिए सीएम योगी से गुहार लगाएंगे। आज शाम स्नेहा का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

इधर, शिव नाडर यूनिवर्सिटी पहुंचे अनुज सिंह के पिता लोकेश ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनके बेटे को कैंसर नहीं था। वीडियो में उसने क्यों कहा। ये नहीं पता। फिलहाल पुलिस ने अनुज के खिलाफ आर्म एक्ट में FIR लिखी है।

'जिंदा बच्चा दिया था...वापस भी जिंदा चाहिए'

इससे पहले शुक्रवार को स्नेहा के पिता राजकुमार चौरसिया यूनिवर्सिटी प्रशासन पर कई सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि इतनी फीस देने के बावजूद यूनिवर्सिटी में बच्चों की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं हैं। यूनिवर्सिटी में हथियार कैसे आया? उन्होंने कहा,'योगीजी से बोलूंगा, हमने जिंदा बच्चा भेजा था, अब वापस भी जिंदा ही चाहिए।

'बेटी ने रात में हमसे फोन पर बात की, सब ठीक था'

छात्रा के पिता राज कुमार चौरासिया ने कहा,'मेरी बेटी स्नेहा ने अनुज सिंह के बारे में कभी बात नहीं की। मैं उसे नहीं जानता। बेटी ने रात के करीब 12 बजे हमसे फोन पर बात की थी। हम मामले की जांच करवाएंगे। हमें यह जानना है कि उसे बंदूक कैसे मिली? कॉलेज के अधिकारियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएंगे।' हालांकि यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने एक कमेटी बनाई है, जो ये जांच करेगी कि अनुज के पास पिस्टल कहां से आई?

'मेरा बच्चा कैंपस में 3 गोलियों से छलनी किया गया'

स्नेहा के चाचा मनीष चौरासिया ने कहा,'स्नेहा को गोली मारी गई। वेपन का यूज हुआ। कॉलेज प्रशासन की लापरवाही है, उसकी उच्च अधिकारियों से जांच कराई जाए। मैं सीएम योगी आदित्यनाथ के यहां जाकर अपने बच्चे के लिए गुहार लगाऊंगा। हमारा बच्चा कॉलेज कैंपस में तीन गोलियों से छलनी किया गया।'

दादरी थाने में अनुज के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज

मामले में स्नेहा के पिता राजकुमार चौरसिया ने अनुज के खिलाफ थाना दादरी में हत्या की तहरीर दी थी। पुलिस ने तहरीर के आधार पर मृतक अनुज के खिलाफ हत्या और आर्म्स एक्ट की रिपोर्ट दर्ज की है। जांच के दौरान मौके से .38 बोर की देसी पिस्टल बरामद हुई थी। कमरे में दो खोके और पिस्टल में एक कारतूस भी बरामद हुआ था।