सोशल मीडिया पर दिल्ली पुलिस की हेड कांस्टेबल सीमा ढाका चर्चा में 

सोशल मीडिया पर दिल्ली पुलिस की हेड कांस्टेबल सीमा ढाका  चर्चा में 
हेड कान्सटेबिल सीमा ढाका

दिल्ली पुलिस की हेड कांस्टेबल सीमा ढाका की इस समय खूब चर्चा में  है।  सोशल मीडिया पर सीमा के कार्यों को सराहा जा रहा है।   इन्हें लोग दिल्ली की 'मैडम सर' कहने लगे हैं। दिल्ली पुलिस में तैनात महिला हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका  ने अपने अदम्य साहस के दम पर तकरीबन 3 महीने के दौरान 76 बच्चों को तलाश करने में कामयाबी हासिल की है। इस उपलब्धि के बाद सीमा ढाका को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया गया है। दिल्ली पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, हेड कांस्टेबल सीमा ढाका ने जिन 76 बच्चों को खोज निकाला है, उनमें 56 की उम्र 14 साल से भी कम है। 
दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के शामली जिले में सीमा की ससुराल है। सीमा के गांव में उनके रिश्तेदार और परिवार में काफी लोग टीचिंग प्रोफेशन से जुड़े हैं। सीमा कहती है कि मैं बचपन से ही सुनती आ रही थी कि महिलाओं के लिए टीचिंग प्रोफेशन सबसे बढ़िया रहता है। यही वजह है कि मैंने भी शिक्षक बनने का निर्णय लिया था, इतना ही नहीं मैंने तो ऐसे विषय पढ़ाई के लिए चुने, जिससे शिक्षक बन सकूं। इस दौरान मैंने दिल्ली पुलिस की भर्ती का फार्म भर दिया और मेरा चयन भी हो गया। 2006 से दिल्ली पुलिस से जुड़कर सेवा कर रही हूँ। 
सीमा ढाका मूलरूप से बढ़ौत की रहने वाली हैं। सीमा की शादी अनिक ढाका से हुई है, जो खुद पुलिसवाले हैं। शामली वही जिला है, जहां पर कुछ वर्ष पहले लड़कियों के जींस पहनने और मोबाइल फोन रखने जैसे कई फरमान जारी हुए थे। पेशे से किसान पिता की संतान सीमा का भाई निजी क्षेत्र में जॉब करता है। सीमा का कहना है कि पढ़ाई के प्रति लगाव और जुनून ही था कि गांव से कॉलेज की दूरी करीब 6 किलोमीटर थी, लेकिन साइकिल से रोजाना आती-जाती थी। आउट और टर्न प्रमोशन पानी वालीं सीमा ढाका की इस उपलब्धि पर उनके परिवार में जश्न का माहौल है। सीमा की ससुराल शामली में खुशी है तो मायके बड़ौत के लोग भी फोन पर उन्हें इसके लिए बधाइयां दे रहे हैं।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें पब्लिक न्यूज़ टी वी के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @PublicNewsTV और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @PublicNewsTV पर क्लिक करें।